• Email

    medicalexpert19@gmail.com
  • Call Now

    +91 7828717929
Awesome Image

त्वचा के रोम कूप यानि छिद्र और तैलीय ग्रंथि के बंद होने की वजह से चेहरे पर पिंपल्स (Pimples) निकलते हैं। इन्हें मुहांसे भी कहते हैं। यह कोई बीमारी नहीं है। आम तौर पर युवावस्था में लड़के-लड़कियों के चेहरे पर पिंपल्स ज्यादा निकलते हैं क्योंकि इसी उम्र में शरीर में हार्मोनल बदलाव होते हैं।




Symptoms


    पिंपल्स का बढ़ना (Pimples in Growth Years)

  • • डर्मेटोलोजिस्ट की मानें तो युवावस्था में त्वचा की तेल ग्रंथियों पर बैक्टीरिया का आक्रमण ज्यादा तेज हो जाता है। त्वचा की तेल ग्रंथियों से तेल का स्राव ज्यादा होने लगता है। बैक्टीरिया की संक्रमण की वजह से त्वचा में सूजन हो जाती है, पस भर जाती है। नतीजा चेहरे पर पिंपल्स निकल आते हैं।

  • • पिंपल्स (Muhase) की दूसरी बड़ी वजह जीवनशैली और फूड हैबिट भी है। ज्यादा वसा यानि तेल में फ्राई किया हुआ खाना खाने, चॉकलेट के सेवन से चेहरे पर पिंपल्स निकलने की संभावना रहती है। ज्यादा कब्ज की शिकायत रहने पर भी चेहरे पर पिंपल्स निकल सकते हैं। इसलिए कब्ज से बचने के लिए अपने भोजन में साबुत अनाज और साग को शामिल करें, ज्यादा पानी पिएं।

Causes


    ग्रोथ इयर्स में अकसर मुहांसे हो जाते हैं लेकिन अगर मुहांसे अधिक हो तो यह चिंता का विषय होता है। मुहांसो (Muhanse) की समस्या निम्न वजहों के कारण भी हो सकती है:

  • • किशोरआयु के लड़के-लड़कियों में सेक्स हार्मोन एंड्रोजेन के स्राव की गति तेज होने से।

  • • ज्यादा मात्रा में जंक फूड और तेल में फ्राई किया हुआ भोजन खाने से।

  • • आनुवांशिक कारणों से भी चेहरे पर पिंपल्स निकलते हैं।

  • • कॉस्मेटिक्स का चेहरे पर ज्यादा इस्तेमाल। कॉस्मेटिक्स लगाने के बाद क्लींजिंग नहीं करने से भी चेहरे पर पिंपल्स (Pimples) निकल आते हैं।

  • • मृत त्वचा कोशिका के दबाव और इन कोशिकाओं में बैक्टीरिया तेजी से बढ़ने के कारण पिंपल्स निकल आते हैं।

  • • पिंपल्स की दूसरी बड़ी वजह जीवनशैली और फूड हैबिट भी है। ज्यादा वसा यानि तेल में फ्राई किया हुआ खाना खाने, चॉकलेट के सेवन से चेहरे पर पिंपल्स निकलने की संभावना रहती है।



सामान्य उपचार


पिंपल्स होने पर क्या न करें (Treatment of Pimples)


  • - अपने चेहरे को बार-बार न छुएं
    - बालों को चेहरे और माथे पर गिरने न दें
    - मेकअप से त्वचा के छिद्र बंद हो जाते हैं इसलिए मेकअप से परहेज बरतें और त्वचा को सांस लेने दें
    - पिंपल्स को कभी भी दबाने या उसके अंदर के पस निकालने की कोशिश न करें, ऐसा करने पर गंभीर घाव हो सकते हैं
    - चेहरे को दिन में दो बार से ज्यादा न धोएं। चेहरे को ज्यादा धोने पर त्वचा की तैलीय ग्रंथि ज्यादा सक्रिय हो जाती है और त्वचा से तेल का स्राव ज्यादा होने लगता है

  • संतरे और नींबू के छिलके - चेहरे पर साबुन लगाने की बजाय संतरे के छिलके का पाउडर या फिर ताजा संतरे या नींबू के छिलकों को लगाएं। इससे पिंपल्स की समस्या से छुटकारा मिलेगा।

  • एलोवेरा जूस पिंपल्स वाली जगह पर एलोवेरा का जूस लगाएं। यह त्वचा को मुलायम बनाने के साथ-साथ पिंपल्स को भी कम करेगा।

  • लहसुन लहसुन पिंपल्स की इलाज में रामबाण का काम करता है। लहसुन के एक दाने को पिंपल्स वाली जगह पर धीरे-धीरे लगाएं। अगर लहसुन न हो तो इसके पेस्ट को चेहरे पर लगाएं। आधा घंटा बाद चेहरा धो लें। काफी फायदा होगा।

  • कच्चा पपीता - कच्चे पपीते के जूस और उसके छिलके को कॉटन के कपड़े में लपेट कर मुंहासों वाली जगह पर लगाएं। काफी असर दिखेगा।

  • मिंट के पत्ते और जूस- मिंट के पत्ते और इसके जूस लगाने से भी मुंहासे दूर होते हैं। रात को सोते समय लगातार दो हफ्ते तक इसे चेहरे पर आजमाएं। काफी असर दिखेगा।

  • शहद और नींबू का रस - शहद और नींबू का रस भी पिंपल्स के इलाज में काफी कारगर है। शहद में नींबू का रस मिला कर पिंपल्स वाली जगह पर लगाएं। पिंपल्स खत्म हो जाएंगे।

  • स्टीम बाथ और आइस पैक - थोड़े गुनगुने पानी में नहाने के बाद चेहरे पर धीरे-धीरे बर्फ की मालिश करें। इससे त्वचा के छिद्र खुलते हैं।

और भी हैं कई घरेलू उपचार (Home Remedies of Pimples)


  • • हल्दी के पाउडर का पेस्ट

  • • नीम के पत्तियों का पेस्ट

  • • उजला टूथपेस्ट

  • • खीरे का जूस और खीरे का फेस पैक

  • • अंडे के सफेदी का फेस मास्क

  • • टमाटर का जूस और टमाटर का फेस पैक

  • • लैवेंडर ऑयल

  • • स्टीम बाथ

त्वचा में उपस्थित तेल ग्रंथियों (oil glands) द्वारा अतिरिक्त सीबम (sebum) का स्त्राव होने के कारण मुंहासे निकल आते हैं। इस दौरान तेल ग्रंथियां बैक्टीरिया से संक्रमित भी हो जाती हैं जिनसे मुंहासे फूलकर लाल हो जाते हैं और कई बार उनमें मवाद भी भर जाता है। मुंहासे ज्यादतर चेहरे, कंधे, गर्दन और पीठ पर निकलते हैं।

वैसे तो बाजार में मुंहासों से निपटने के लिए कई तरह की क्रीम, लोशन और चेहरे को धोने (face wash) के उत्पाद मौजूद हैं लेकिन इनका असर अधिक या लंबे समय तक नहीं होता है। इन उत्पादों का प्रयोग बंद करते ही समस्या फिर से पनपने लगती है।

मुंहासों के लिए कई ऐसे घरेलू नुस्खे मौजूद हैं, जो त्वचा के लिए भी नुकसानदायक नहीं है साथ ही मुंहासों को जड़ से समाप्त करेंगे। आइए जानते हैं कुछ ऐसे ही घरेलू नुस्खों के बारे में-

मुंहासों से निपटने के लिए घरेलू नुस्ख़े (Home Remedies For Pimples)


  • बर्फ (Ice) बर्फ मुंहासों की सूजन और लालिमा को जल्द से जल्द ठीक करने का गुण रखती है। बर्फ प्रभावित क्षेत्र में रक्त परिसंचरण (blood circulation) दुरूस्त करती है जिससे त्वचा के कस जाते हैं और त्वचा पर मौजूद गंदगी और तेल साफ हो जाता है। उपचार के लिए किसी पतले कपड़े में बर्फ का टुकड़ा लेकर प्रभावित स्थान की सिकाई करें।

  • नींबू (Lemon) नींबू में मौजूद विटामिन सी मुंहासों को जल्दी सूखने में मदद करता है। उपचार के लिए रूई को नींबू के रस में भिगोकर प्रभावित स्थान पर लगाएं या दालचीनी पाउडर में नींबू के रस की कुछ बूंदे मिलाकर रात में प्रभावित स्थान पर लगाकर सो जाएं। सुबह गुनगुने पानी से चेहरा साफ करें।

  • टूथपेस्ट (Toothpaste) मुंहासों के इलाज में टूथपेस्ट भी बहुत कारगार उपाय है। लेकिन इसके लिए साधारण टूथपेस्ट का ही इस्तेमाल करना चाहिए। जेल वाले टूथपेस्ट का इस्तेमाल करने से बचें। बर्फ से मुंहासों को सेक कर, प्रभावित स्थान पर आधे घंटे के लिए टूथपेस्ट लगाकर छोड़ दें।

  • स्टीम (Steam) स्टीम लेने से भी चेहरे के मुंहासे खत्म होते हैं। जब चेहरे पर भाप ली जाती है तो रोम छिद्र खुल जाते हैं, जिससे त्वचा खुल कर सांस लेती है और इस पर मौजूद गंदगी और तेल साफ हो जाते हैं। इतना ही नहीं पोर्स में मौजूद बैक्टीरिया भी स्टीम लेने से खत्म हो जाते हैं।

  • लहसुन (Garlic) लहसुन एक एंटीसेप्टिक, एंटीऑक्सीडेंट और एंटीवायरल एजेंट है। लहसुन में मौजूद सल्फर (Sulphar) भी मुंहासों को जल्दी ठीक करने के लिए उपयोगी है। उपचार के लिए लहसुन की कली को दो टुकड़ों में काटकर मुंहसों पर रगड़ें और पांच मिनट के लिए छोड़ दें। उसके बाद चेहरा धो लें।

  • बेकिंग सोडा (Baking Soda) बेकिंग सोडा चेहरे का अतिरिक्त तेल, गंदगी और मृत त्वचा कोशिकाओं को हटाने में मदद करता है। नींबू के रस के साथ बेकिंग पाउडर लेकर मिश्रण तैयार करें। इस मिश्रण को मुंहासों पर लगाएं और सूखने तक छोड़ दें। इस मिश्रण को लगाने से जलन महसूस हो सकती है इसलिए इसे बहुत देर त्वचा पर नहीं रखना चाहिए।

  • शहद (Honey) शहद भी मुंहासों को जल्द से जल्द ठीक करने का गुण रखता है साथ ही, यह एंटीबायोटिक दवाओं का भी एक स्त्रोत है, इसलिए इसमें बैक्टीरिया को मारने की भी क्षमता होती है। उपचार के लिए रूई में थोड़ा सा शहद लेकर प्रभावित स्थान पर लगाएं और तकरीबन आधे घंटे के लिए छोड़ दें। शहद में दालीचीनी का पाउडर मिलाकर भी लगाया जा सकता है।

  • खीरा (Cucumber) खीरा में मौजूद पोटेशियम के कारण खीरा लगाने से त्वचा को ठंडक मिलती है। खीरा में विटामिन ए, ई और सी भी मौजूद होते हैं। उपचार के खीरा को पीसकर, उसे चेहरे पर लेप की तरह लगाएं। तकरीबन 15 मिनट बाद चेहरा धो लें। इससे चेहरे के पोर्स की सफाई होगी साथ ही त्वचा के बैक्टीरिया भी खत्म होंगे।

  • पपीता (Papaya) पपीता, एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन ए का उच्च स्त्रोत है। पपीते में मौजूद एंजाइम चेहरे पर मौजूद मुंहासों की सूजन को कम करके चेहरे को चिकना बनाते हैं। उपचार के लिए पपीते को क्रश करके चेहरे पर फेस मास्क की तरह लगाएं और तकरीबन 15 मिनट बाद चेहरा धो दें। इसके अलावा पपीते में शहद मिलाकर भी चेहरे पर लगाया जा सकता है।

  • दालचीनी पाउडर (Cinnamon Powder) दालचीनी पाउडर भी मुंहासों के इलाज के लिए बेहद अच्छी घरेलू दवा है। दालचीनी में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं। दालचीनी को सेब के सिरका के साथ मिलाकर मुंहासों पर लगाने से मुंहासे ठीक होते हैं। दालचीनी के साथ शहद मिलाकर भी चेहरे पर लगाया जा सकता है।