• Email

    medicalexpert19@gmail.com
  • Call Now

    +91 7828717929
Awesome Image

पीलिया एक ऐसा रोग है जो एक विशेष प्रकार के वायरस और किसी कारणवश शरीर में पित्त यानि रक्त में बिलीरुबिन (Bilirubin Disorder) की मात्रा बढ़ जाने से होता है। इसमें मरीज को पीला पेशाब होता है। उसके नाखून, त्वचा और आंखों का सफेद भाग पीला पड़ जाता है पीलिया होने पर व्यक्ति का लीवर प्रभावित होता है। यदि समय रहते पीलिया रोग का उपचार न किया जाए तो व्यक्ति की मृत्यु भी हो सकती है।




Symptoms


  • • त्वचा और आँखों के सफ़ेद हिस्से (स्क्लेरा) पर पीलापन होना

  • • भूख न लगना, बुखार रहना, जी मिचलाना, सिर में दर्द होना

  • • पेशाब का पीला आना तथा कमजोरी व थकान लगना

  • • पेटदर्द,वजन में कमी

  • • सामान्य से अधिक पीला मल, गहरे रंग का मूत्र

  • • आमाशय में सूजन होना

  • • त्वचा का रंग पीला हो जाना

  • • दाहिनी पसलियों के नीचे भारीपन आना और दर्द होना

  • • पित्त के कारण मल का रंग फीका या सफेद हो जाना

  • • शाम में थका-थका महसूस करना और 102 डिग्री के आसपास बुखार रहना

  • • लिवर के क्षेत्र में तीव्र खुजली और हल्का दर्द।

  • • गुदा से रक्तस्राव।

Causes


  • • अत्यधिक शराब पीना,संक्रमण।

  • • बाजार की गन्दी चीजें खाना

  • • किसी बीमार व्यक्ति का झूठा खाना व पिने से

  • • खून की कमी होने से

  • • लिवर की कमजोरी से

  • • पित्ताशय की पथरी

  • • शरीर में एसिडिटी के बढ़ जाने

  • • काफी दिनों तक मलेरिया रहने

  • • अधिक नमक और तीखे पदार्थों के सेवन से।



Precautions


  • • पीलिया के रोगियों को तेल या घी में तला चीज, मसालेदार, नमकीन, मीट, पचने में भारी खाद्य पदार्थ और तेलयुक्त भोजन का सेवन नहीं करना चाहिए.

  • • कोई भी नशीली चीज या ड्रग्स, शराब आदि का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए क्योंकि ये सभी चीजें आपके लीवर के लिए धीमा जहर के रूप में कार्य करती है. परिणाम स्वरूप पीलिया की समस्या बढ़ जाती है.

  • • दाल और कार्बोहाइड्रेट तथा प्रोटीन से समृद्ध भोजन से पीलिया में परहेज करना चाहिए.

  • • सोने के कमरे से पुराने कपड़े और खिलौने हटा लें

  • • जानें पीलिया से बचाव के घरेलू उपचार (Home Remedies for Jaundice)

Home Remedies for Asthama


  • 1. टमाटर का रस (Tomato juice)- पीलिया होने पर एक गिलास टमाटर के रस में एक चुटकी नमक और काली मिर्च मिलाकर सुबह खाली पेट पीएं। आराम मिलेगा।

  • 2. मूली की पत्ती (Radish leaves)- मूली की पत्तियों को पीसकर, उसका रस निकालें। लगभग आधा लीटर मूली की पत्तियों का रस रोजाना पीएं। दस दिन के भीतर रोगी को पीलिया से आराम मिलेगा।

  • 3. पपीते की पत्ती (Papaya leaves)- एक चम्मच पपीते की पत्ती के पेस्ट में एक चम्मच शहद मिलाकर, रोजाना तकरीबन दो हफ्तों तक खाएं। पीलिया के उपचार के लिए यह बेहद फायदेमंद घरेलू नुस्खा है।

  • 4. गन्ना (Sugarcane)- गन्ना, पाचन क्रिया को दुरूस्त करता है साथ ही लीवर को भी बेहतर तरीके से कार्य करने में मदद करता है। उपचार के लिए एक गिलास गन्ने के रस में नींबू का रस मिलाकर रोजाना दो बार पीएं।

  • 5. तुलसी की पत्ती (Basil leaves)- तुलसी की दस से पन्द्रह पत्ती का पेस्ट बनाकर, गाजर के रस में मिला लें। इस रस को रोजाना, दो से तीन हफ्तों तक पीएं। पीलिया रोग से राहत मिलेगी।

  • 6. जौ (Barley)- एक कप जौ को तीन लीटर पानी में अच्छी तरह उबाल लें और तीन घंटे तक ढक कर रख दें। इस पानी को दिन में कई बार पीएं।

  • 7. नींबू (Lemon)- नींबू लीवर को क्षतिग्रस्त होने से बचाता है। एक गिलास पानी में दो नींबू निचोड़ें और पीएं।

  • 8. बादाम (Almond)- बादाम की 8 गिरी, 2 खजूर और 5 इलायची को पानी में रातभर भिगाकर रखें। सुबह सबके छिलके उतारकर, पीसकर, पेस्ट तैयार करें। इसमें थोड़ा सा मक्खन और चीनी मिलकर खाएं।

  • 9. हल्दी (Turmeric)- एक गिलास गुनगुना पानी लें और उसमें हल्दी मिलायें, इस पानी को दिन भर में तीन से चार बार पीएं। पीलिया के उपचार के लिए बेहद प्रभावी उपाय है।

  • 10. छाछ (Buttermilk)- पीलिया होने पर छाछ बेहद लाभकारी है। दही को मथकर छाछ तैयार करें और इसमें काली मिर्च और भुना जीरा मिलाकर पीएं।

  • 11. केला (Banana)- पके हुए केले को कुचलकर, उसमें शहद मिलायें। इस तरह के केले को दिन में दो बार खाएं।

  • 12. गाजर का रस (Carrot juice)- गाजर का ताजा रस निकालकर पीएं, पीलिया में राहत मिलेगी।

  • 13. बेल की पत्ती (Wood apple leaves)- बेल की पत्ती को पीसकर पाउडर बना लें। इस पाउडर को पानी में मिलाकर रोजाना पीएं। पीलिया के उपचार के लिए बेहद प्रभावी उपाय है।

  • 14. कैमोमाइल चाय (Chamomile tea)- कैमोमाइल पीलिया रोग में बेहद लाभकारी है। कैमोमाइल की पत्तियों की चाय बनाकर पीने से पीलिया रोग जल्दी ठीक होता है। इस चाय को पीलिया ठीक होने के बाद भी पीना जारी रख सकते हैं।

  • 15. आंवला (Gooseberry)- आंवला विटामिन सी से भरपूर होता है। पीलिया रोग में आंवले का सेवन करने से बेहद लाभ होता है। आंवले के सेवन से लीवर भी मजबूत होता है।

  • 16. चना और गुड़ - चना और गुड़ पीलिया का आयुर्वेदिक उपचार है. इसके लिए चने की दाल को रात को सोने से पहले पानी में भिगो दें. सुबह इसमें गुड़ मिलाकर खाएं.

  • 17. लहसुन- लहसुन की तीन से चार कलियाँ पीस कर इसे दूध के साथ लें. यह पीलिया का रामबाण इलाज है

  • 18. आयरन - आयरन की खुराक लेने या अधिक आयरन युक्त खाद्य पदार्थ खाने से रक्त में आयरन की मात्रा बढ़ती है जो एनीमिया से होने वाले पीलिया का इलाज उपचार करने में उपयोगी होता है. चुकंदर, मूली, गाजर, और पालक आदि जैसी सब्जियों का ताजा रस अधिक मात्रा में सेवन करें.

  • 19. फलों का रस - जैसे संतरा, नाशपाती, अंगूर और नीबू और सब्जियों का शोरबा का सेवन करें ,नारियल का पानी का सेवन करें

  • 20. योग आसन - जैसे मत्स्यासन (मछली मुद्रा), भुजंगासन, उत्तान पादासन, शवासन, कपालभाति और प्राणायाम